स्वरोजगार और समाज

“स्टार्टअप“, ये चमत्कारी शब्द तो सुना ही होगा । सरकार से लेकर समाज तक सभी जगह ये शब्द चर्चा मे है । बड़े नगरों में तो ये शब्द सर्वाधिक प्रचलित है । जहाँ सरकार पूरी तरह प्रयासरत है, ऐसा प्रतीत होता है की समाज भी इसमे बराबर भगीदार है । परन्तु वास्तविक्ता इससे भिन्न हैContinue reading “स्वरोजगार और समाज”

%d bloggers like this: