Home


तू जड़ नही, तू मर नही, तू धीर हो चल डर नही,
तू प्राण बन, तू तेज बन, तू मौन सा दिनचर नही
तू ज्ञान गंगा का पान कर, प्रत्येक वर्ग का मान कर
तू मानको को दे दिशा, न्यायी युग का निर्माण कर
– जयेन्द्र​


Featured Blogs


Arise, awake and do not stop until the goal is reached.” – Swami Vivekananda


हठी शूद्र सा दृढ़ हो जा, ले ब्राह्मण सा ज्ञान ।
वैश्य बन वास्तव को देख, बन क्षत्रिय बलवान ।

जयेन्द्र​


कर्मण्ये वाधिका रस्ते मा फलेषु कदाचन।
मा कर्म फल हेतु र्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्व कर्मणि॥


Latest from the Blog

अब जैविक-रासायनिक हथियारों पर होगी दुष्टों की नज़र

यदि अब तक के सबसे घातक हथियारों और उसके अमानवीय प्रभावों को याद करें तो एक भयानक चित्र सदैव आँखों के समने आता है, हिरोशिमा पर गिरा परमाणु हथियार । और उससे भी घातक परमाणु हथियार बनने की होड़ । आज हमारी पृथ्वी पर इतने परमाणु हथियार अलग-अलग देशों के पास है जो कि एकContinue reading “अब जैविक-रासायनिक हथियारों पर होगी दुष्टों की नज़र”

अतार्किक होते हुए भी क्युँ प्रचलित है जातिवाद

हमारे देश मे कई समस्यायें है, उसमें से जो दुष्टतम है, वह है जातिवाद । नित्य समाचार-पत्र इस तरह की घतनाओं से अटे रहते है । कोई जाति किसी को भी नीचा दिखा सकती है । कभी ब्राह्मण-क्षत्रिय को, कभी क्षत्रिय-ब्राह्मण को, वैश्य-शूद्र को या शूद्र-ब्राह्मण को । यह विवाद इन सभी जातियों के भीतरContinue reading “अतार्किक होते हुए भी क्युँ प्रचलित है जातिवाद”

Feminism is nice, but why settle for a lesser idea ?

Quick Look At Feminism History Feminism is a western idea which is among the most talked about and debated topics in west. First wave of Feminism, Initial women’s right movements were focused on political equality via voting right for women and made it happen in 19th Amendment, 1920. It was the first major victory forContinue reading “Feminism is nice, but why settle for a lesser idea ?”

%d bloggers like this: